मज़हबी कट्टरता एवं जनसंख्या असंतुलन पर लगाम लगे – सुरेंद्र जैन

मेरठ। आज मेरठ महानगर के सर्किट हाउस में पत्रकार बंधुओ को सम्बोधित करते हुए विश्व हिंदू परिषद के संयुक्त महामंत्री सुरेंद्र जैन ने कहा आज देश के सामने बढ़ती जनसंख्या असंतुलन बहुत बड़ी चुनौती बनती जा रही है।

अभी उत्तर प्रदेश सरकार ने इस विषय पर बहुत बड़ी पहल की है उत्तर प्रदेश सरकार इस पर एक क़ानून बनाने के लिए विचार कर रही है विश्व हिंदू परिषद योगी आदित्यनाथ जी से अपील करता है जनसंख्या नियंत्रण पर जल्द क़ानून बने। जनसंख्या असंतुलन देश की प्रगति में सबसे बड़ी बाधक है इसी के कारण भूतकाल में पाकिस्तान और बांग्लादेश का निर्माण हुआ था।

जमीयत उलेमा हिन्द एवं देवबंद के दोगले चहरे को आज पूरा भारत देख रहा है ये लोग कभी भी किसी आतंकवादी के ख़िलाफ़ फ़तवा जारी नहीं करते लेकिन अगर कोई भारत एवं हिंदू समाज की बात करता है तो उसके लिए अनेकों फ़तवे जारी हो जाते है पिछले दिनों एक शिव भजन गाने पर एक यूट्यूबर पर तो फ़तवा जारी किया लेकिन शिव विहार में हुए नरसहार पर किसी के मुँह से एक शब्द नहीं निकला क्या ये दोहरा मापदंड नहीं है।

जबकि मीडिया रिपोर्ट और अनेकों एजेंसीयो ने साफ़ कहा था ये कार्य देवबंद के कट्टरपंथी विद्यार्थियों ने किया है।ये लोग सर तन से जुदा करने वाले लोगो को पीड़ित बताते है लेकिन देश की एकता अखंडता की बात करने वाले लोग इनकी नज़रों में देश के दुश्मन है।क्योंकि इनकी विचारधारा बाबर,औरंगज़ेब ,हफ़ीज़ और लादेन से मिलती है।

जैन ने आगे कहा CAA का विरोध करने वालो में देवबंद और इस्लामिक जमात सबसे आगे रही है इनके लोग ही सड़को पर उतर कर उग्र प्रदर्शन कर रहे थे।मेरा सवाल है देवबंद और जमीयत उलेमा हिन्द से क्या वो इन हत्यारों के साथ खड़े है ?

इन आतंकवादीयो से जमीयत का क्या संबंध है ?

आज भारत में रहने वाले सभी मुस्लिमों एवं सम्पूर्ण इस्लामिक जमात से मेरा प्रश्न है आप लोगो के पूर्वज कौन थे जिन हिंदुओ को तुम काफिर कहते हो उनके पूर्वज और तुम्हारे पूर्वज एक ही है।जमीयत उलेमा हिन्द को दारुल इस्लाम पर अपना मत स्पष्ट करना होगा ।अपना दोहरा चरित्र बदल कर हिंदू समाज के साथ नये भारत के निर्माण में अपना सहयोग देना ही होगा। आज पूरा विश्व भारत को महाशक्ति बनते देख रहा है आने वाली शताब्दी भारत की होगी ये बात कट्टरपंथी जमात और इसको मानने वाले लोगो को समझ जानी चाहिए।

कुछ राक्षस प्रवृति के लोग आज श्रीराम चरित मानस पर उँगली उठा रहे है जिन लोगो को भाषा एवं धर्म का ज्ञान भी नहीं उनको समझना चाहिए इस प्रकार की अनर्गल टिप्पणी करने से पहले विचार करे हिंदू समाज सदा से सहिष्णु रहा है यही टिप्पणी अगर किसी अन्य धर्म पर की होती तो अब तक अनेकों फ़तवे जारी हो गए होते लेकिन हिंदू समाज इतने बड़े अपमान पर भी शांत रह गया यही हिंदू धर्म की विशेषता है।
उन्होंने आगे कहा पंडित का अर्थ विद्वान होता है लेकिन लोगो ने पंडित का अर्थ ब्राह्मण समझ लिया इसी वजह से अर्थ का अनर्थ हो गया भारत में आदि काल से वरण कर्म के अनुसार रहा है ना कि जन्म के अनुसार।

भारत में रहने वाले लोगो को भारत के संविधान से चलना होगा,भारत को माता एवं भारत के राष्ट्रपुरुषों को मनन करना ही होगा तभी इस देश की उन्नति एवं प्रगति संभव है। प्रेसवार्ता में प्रांत सहमंत्री राजकुमार डूंगर जी साथ रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *