Mann Ki Baat @100 : PM मोदी के ‘मन की बात’ में कई बार छाया मेरठ, ‘कबाड़ से जुगाड़’ से लेकर इनकी की तारीफ

मेरठ। प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के आज 100 एपिसोड पूरे हो गए। हर महीने के अंतिम रविवार को प्रसारित होने वाले इस कार्यक्रम को देश की जनता खूब पसंद करती है। इस बार के ऐतिहासिक एपिसोड को यादगार बनाने के लिए देश में जगह-जगह इसकी लाइव स्क्रीनिंग की गई है और करोड़ों लोग इसे लाइव सुन और देख रहे हैं। चाहे दिव्यांग गौतम पाल हों या फिर नगर निगम का ‘कबाड़ से जुगाड़’, इस कार्यक्रम में मेरठ कई बार छाया रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम के 100वें प्रसारण के उपलक्ष्य में बुधवार से एक सप्ताह के कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली में किया जा रहा है, जिसमें मेरठ के दिव्यांग समाजसेवी गौतम पाल भी शामिल हुए।

कार्यक्रम 26 से 30 अप्रैल तक आयोजित हो रहा है। इसके तहत सभी राज्यों के राजभवन में भी कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। गेसूपुर गाांव निवासी गौतम पाल के दिव्यांगों के सुझावों को पीएम मोदी ने मन की बात के प्रथम संस्करण साल 2014 में भी साझा किया था। गौतम शॉटपुट, जैवलिन और डिस्कस थ्रो के पैरा खिलाड़ी भी रहे हैं। 

मेरठ से अब तक इनका पीएम मोदी ने मन की बात में किया जिक्र
आपको बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी मन की बात में मेरठ के पुलिसकर्मियों द्वारा लोगों की मदद करने, हियर द साइलेंस संस्था द्वारा असहायों की सहायता करने, पैदल चाल खिलाड़ी प्रियंका गोस्वामी और शहर में नगर निगम द्वारा कबाड़ से जुगाड़ का भी जिक्र कर चुके हैं।

इसके अलावा पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में क्रांतिधरा से जुड़ी रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शित गैलरी का भी जिक्र करते हुए इसे सराहनीय कदम बताया था।

यहीं नहीं पीएम मोदी के मन की बात कार्यक्रम में  मेरठ के पुलिसकर्मियों की लॉकडाउन के दौरान मदद का जिक्र किया बल्कि सहारनपुर में पुलिसकर्मियों द्वारा एक बुजुर्ग का बेटों की तरह अंतिम संस्कार किए जाने का भी जिक्र किया था। 

पर्यावरण पर भी की मन की बात
पीएम मोदी ने रविवार को मन की बात में कहा कि मैं हमेशा ही कहता हूं कि हमें विदेश में टूर जाने से पहले अपने देश के टूरिज्म प्लेसों पर जाना चाहिए। ऐसे ही हमने स्वच्छ सियाचिन, सिंगल यूज प्लास्टिक और ई-वेस्ट पर भी बात की है। आज दुनिया जिस पर्यावरण को लेकर इतनी परेशान है, उसे लेकर मन की बात का प्रयास भी जारी है। मुझे यूनेस्को की डीजी का बयान भी आया है। उन्होंने मन की बात के 100वें एपिसोड पर बधाई दी है और एक संदेश भी भेजा है। बता दें कि मेरठ के जल संरक्षण और पर्यावरण के लिए काम कर रहे मेरठ के क्लब-60 का भी अपने मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने जिक्र किया था। 

पीएम मोदी ने कहा कि मन की बात में कितने ही जनआंदोलनों ने जन्म लिया और गति भी पकड़ी है। जब देश में बने खिलौनों को फिर से जोर देने की बात चली तो इस कार्यक्रम ने अहम भूमिका निभाई।

आज राज्यपाल करेंगी गौतम पाल को सम्मानित
प्रधानमंत्री के मन की बात के 100वें एपिसोड पर कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दिल्ली पहुंचे दिव्यांग समाजसेवी गौतम पाल को आज लखनऊ में प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल सम्मानित करेंगी। 

गौतम पाल ने बताया कि वह दिल्ली में एक होटल में रुके हुए हैं। बुधवार को विज्ञान भवन में मन की बात पर कांक्लेव हुआ। इसमें उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़, बालीवुड़ की अभिनेत्री रविना टंडन और अभिनेता आमिर खान भी शामिल हुए। इस दौरान वहां उनसे पूछा गया कि प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम में उनका जिक्र किए जाने के बाद उनके जीवन में क्या बदलाव किया।  

उन्होंने बताया कि इसके बाद से वह दिव्यांगों के हक के लिए कार्य कर रहे हैं। उन्होंने एक पुस्तक लिखी दिव्यांगता अभिशाप नहीं।  प्रधानमंत्री ने 2016 में फीफा-17 का जिक्र किया था, जिसके बाद उन्होंने कई राज्यों में हजारों फुटबाल वितरित की। उन्होंने बताया कि 30 अप्रैल को लखनऊ में राज्यपाल उन्हें सम्मानित करेंगी।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *